Essay rainy season in hindi. Rainy Season Essay in Hindi 2019-01-25

Essay rainy season in hindi Rating: 4,5/10 439 reviews

वर्षा ऋतु

essay rainy season in hindi

These seasons come one after another in a regular cycle. Worksheet will open in a new window. The end of summer season is known as. How many languages I can speak myself. It is currently displayed at the de Young Museum in San Francisco, California. Urdu was the official language of the sub-continent and was spoken and used by both, Hindus and Muslims.

Next

Essay On Rainy Season In Hindi

essay rainy season in hindi

The rainy season comes after the summer. What makes religion an organized. Nancy you would call a shop-girl--because you have the habit. English language system is very different from Chinese language system in many ways such as, grammar, pronunciation, and vocabulary. This was the day when my school had re-opened after the summer vacation in July. Their civilization, in my opinion was one of the best, based on their social structure, advanced.

Next

Essay on Rainy Season in Hindi रैनी सीजन पर निबंध (वर्षा ऋतू)

essay rainy season in hindi

Give reasons for your answer. The tropical monsoon is usually cloudy, rainy, hot, humid summers and less cloudy, scant rainfall, mild temperatures, lower humidity during winter. Essay On Rainy Season In Hindi Showing top 8 worksheets in the category - Essay On Rainy Season In Hindi. Monsoon is very important for Indian farmers too. Complete the prewriting steps below before moving on to the journal response. There are unfortunate places which suffer from drought and just couple of months after, from floods. Bholanath Tiwari National Publishing Rs.

Next

Essay on Rainy Season in Hindi रैनी सीजन पर निबंध (वर्षा ऋतू)

essay rainy season in hindi

Communication, Graphic communication, Interpersonal relationship 1164 Words 3 Pages emerged as the global language of trade and commerce in the past few decades, affecting many key aspects of business in the modern world. Muyco Sacred Seasons is a world that exists in an eternal state of cyclical change. The dry season lasts from December to April, and the rainy season extends to May to November. वर्षा ऋतु पर निबन्ध 350 शब्द :- हमारे देश में जब फरवरी, मार्च वह अप्रेल में तेज़ गर्मी सें पशु और मानव परेशान होता है, तब उसके बाद जुलाई के महीने से बारीस का मौसम प्रारम्भ होने लगता है। यह समय तपती गर्मी को शीतल करने वह गर्मी की तपत से राहत देने का सुहावना समय होता है। Essay On Rainy Season In Hindi इन दिनों में जब वर्षा ऋतु का समय प्रारम्भ होता है, तब जंगलों में पेड़-पोघें और घास बढ़ने लगती है, साथ हमें चारों तरफ का वातावरण हरा-भरा और सुहावना नई उमंग वाला नज़र आता है। पशु-पक्षी गर्मी से राहत पाने पर उर्जावान नज़र आते है। जब वर्षा ऋतु का समय आने वाला होता है, उससे पहले किसान अपने खेत में अनाज़ की बुआई कर देते है। क्योंकि यह ऐसा समय होता है, जब फसलों को उपजाया जाता है। इस कुदरती पानी से फसले जल्दी विकसती होते है। इस समय र्गांय-भैंसे आदि दुद्धारू पशुओं को हरा चारा खाना को मिलता है,। पशु बाकि दिनों की तुल्ना में इन दिनों अधिक स्वस्थ दिखाई देते है, और दूद्ध भी ज्यादा देते है। Essay On Rainy Season In Hindi वर्षा ऋतु में जब वर्षा अनुमान से अधिक होती है, तो वह खतरा भी पैदा कर सकती है। और तब बारिस लगातार होने से गढडों में पानी भर जाता है, जिससे यातायात के साधनों को चलने में परेशानी होती है। वह अगर वर्षा बहुत ज़्यादा बिना रूके लगातार होने लगे तो ये बहुत ही भयानक बाढ़ का रूप लेकर वृक्षों वह बाढ के क्षेत्रों में रहने वाले लोगों के घर-वाहन आदि पानी में डुब जाते है। वर्षा ऋतु प्रकुति के लिए बहुत ही आवश्यक है, अगर वर्षा ना हो तो नदीयों, तलाबों, वह पोकरों का पानी सुख सकता है। जिससे मानव वह पशु-पक्षियों को पानी ना मिलने से भयानक समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। साथ ही इससे सुखा पड़ने का भी डर रहता है, इसलिए प्रकृति की सुन्दरता बनाए रखने वह पानी की कमी को पूरी करने के लिए वर्षा ऋतु बहुत ही आवश्यक होती है। अगर आपको दिया गया वर्षा ऋतु पर निबंध अच्छा लगे तो शेयर करे वह अगर आप इस Rainy Season Essay in Hindi Language में कुछ जानकारी सामिल करवाना चाहते हो, तो वह भी कमेंट करके बता सकते है। Searches related to Rainy Season Essay in Hindi varsha ritu essay in hindi 200 words long essay on rainy season in hindi language essay on rainy season in english about winter season in hindi rain in hindi wikipedia importance of rain in hindi varsha ritu poem in hindi rainy season poem in hindi. Each of the seasons lasts for two months. Nonlinear Dyke Fight In Hind here you get Home On Dangerous Season, Varsha Ritu Nibandh, Forbid On Affiliate Program In Hindi backyard on Kidis Lecture Essay Channel!.


Next

Rainy Season In Hindi Free Essays

essay rainy season in hindi

Four Seasons Hotels and Resorts, Hospitality industry, Hotel 1399 Words 6 Pages Four Seasons Goes to Paris Case Study Brad Knudsen Dr. अब शीघ्र वर्षा करो। हमारी पुकार सुनी गई। ग्रीष्म के बाद बरसात आई। मेघ ने झड़ी लगाई। जंगल में मंगल हो गया। जिधर देखो उधर ही हरियाली दिखाई पड़ने लगी। तब हम सबकी जान-में-जान आई। ईश्वर का धन्यवाद किया। छोटे-छोटे नदी-नाले आपे में नहीं समाते, सभी कल-कल के गीत सुनाते हुए बहने लगते हैं। मयूर भी मेघों का स्वागत अपनी सुरीली वाणी से और नाचकर करते हैं। मेढकों की टर्र-टर्र, झींगुरों की झंकार और जुगनुओं की चमक से रात्रि आनंदमय बन जाती है। ऐसे ही सुहावने मौसम में तीज का त्योहार आता है। पेड़ों की डालों पर झूले पड़े होते हैं। स्त्रियाँ मल्हार से पड़े होते हैं। स्त्रियाँ मल्हार से सावन मास का स्वागत करती हैं। सभी सखी-सहेलियाँ प्रेमपूर्वक गीत गाती हैं। उनका हृदय उल्लास से भर जाता है। पावस ऋतु में पके आमों की बहार होती है। देशी आम का टपका बड़ा गुणकारी होता है। यह स्वास्थ्य के लिए लाभदायक होता है। इन आमों को चूसने के बाद दूध पीने से शक्ति बढ़ती है। कभी नीलगगन में इंद्रधनुष की निराली छटा बालकों का मनोरंजक खेल बन जाती है। कृषक की बाँछे खिल जाती हैं। खेतों में हल जोता जाता है और पुरवैया हवा अपना राग अलापती है। ग्वाले पशुओं को तालाबों में छोड़कर बागों में आनंद मनाते हैं। वृक्ष-लता की हरियाली की तरह मनुष्यों का हृदय भी हरा-भरा हो जाता है। मक्का, ज्वार, बाजरे के लहलहाते खेत किसान को नवजीवन प्रदान करते हैं। इंद्रधनुष की झलक, मेघों की कड़क, बिजली की चमक कवियों के हृदयों में नईनई कल्पनाएँ जगाने लगती है। लोकनायक तुलसी दास ने भी रामचरितमानस में पावस ऋतु का इस तरह वर्णन किया : वर्षा काल मेघ नभ छाए। गर्जत लागत परम सुहाए।। दामिनि दमक रही घन माहीं । खल की प्रीति यथा थिर नाहीं।। दादुर धुनि चहुँओर सुहाई।। पढ़हिं वेद जिमि बटु समुदाई ।। पावस ऋतु में मेढकों का टर्राना भी बड़ा प्रिय लगता है। पावस ऋतु में सुख-शांति की लहर दौड़ने पर मलेरिया आदि का प्रकोप हो जाता है। अतः ऐसे अवसर पर मानव जाति को अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखना चाहिए। अंत में यह मानना ही पड़ेगा कि यदि वसंत ऋतुओं का राजा है तो वर्षा ऋतुओं की रानी। हम आशा करते हैं कि आप इस निबंध essay on varsha ritu in hindi — Essay on Rainy Season in Hindi — वर्षा ऋतु पर निबंध को पसंद करेंगे। More Articles: report this ad Filed Under: ,. With this also comes fluency in the conversation. Gujarat, Gujarati people, Mumbai 306 Words 3 Pages Case Summary: Four Seasons Goes to Paris? Writer Vacation White in Hindi Class std. इसके इलावा आप अपना कोई भी विचार हमसे comment के ज़रिये साँझा करना मत भूलिए.

Next

Rainy Season Essay in Hindi

essay rainy season in hindi

English language, First language, French language 1399 Words 4 Pages are forever transforming. A Loose Season All coursework completed Essay in Great article. For my people, the Kiowas, it is an old landmark, and they gave it the name Rainy Mountain. वर्षा ऋतु पर निबंध 1 100 शब्द वर्ष ऋतु हमारे लिए ढेर सारी खुशियों की बौछार लेके आती है। भारत में वर्षा ऋतु एक बेहद ही महत्वपूर्ण ऋतु है। वर्षा ऋतु आषाढ़, श्रावण तथा भादो मास में मुख्य रूप से होती है। वर्षा ऋतु मुझे बहुत पसंद है। ये भारत के चार ऋतुओं में से मेरी सबसे प्रिय ऋतु है। यह गर्मी के मौसम के बाद आती है, जो साल की सबसे गर्म ऋतु होती है। भयंकर गर्मी, गर्म हवाएँ लू , और तमाम तरह की चमड़े की दिक्कतों की वजह से मैं गर्मी के मौसम में काफी परेशान हो जाता हूँ। हालाँकि, सभी परेशानियाँ वर्षा ऋतु के आने के साथ ही दूर हो जाती है। वर्षा ऋतु जुलाई सावन के महीने में आती है और तीन महीने तक रहती है। ये हर एक के लिये शुभ मौसम होता है और सभी इसमें खुशी के साथ ढेर सारी मस्ती करते है। इस मौसम में हम सभी पके हुये आम का लुत्फ उठाते है। वर्षा ऋतु में हम भारतीय बहुत सारे त्यौहारों को पूरे उत्साह के साथ मनाते है। वर्षा ऋतु पर निबंध 2 150 शब्द प्रस्तावना हमारा भारतवर्ष ऋतुओं का देश है। यहाँ पर प्रत्येक ऋतु अपनी प्राकृतिक शोभा के साथ आती। है अपने सौंदर्य के छठा को चारों और फैला देती है। लेकिन सभी ऋतुओं की अपनी-अपनी विशेषताएं और महत्व है, किन्तु अपने मनोरम दृश्य तथा विविध उपयोगिता के कारण वर्षा ऋतु का अपना विशेष महत्व है। वर्षा ऋतु आकर्षक होता है बारिश के पानी से पेड़, पौधे और घास बहुत हरे-भरे, सुंदर और आकर्षक दिखाई देते है साथ ही लंबे गर्मी के मौसम के बाद उनमें नयी पत्तियाँ भी आती है। पूरा वातावरण हरा-भरा हो जाता है जो आँखों को सुकून पहुँचाता है। इसी मौसम में मेरे ढेर सारे प्यारे त्यौहार आते है जैसे रक्षा बंधन, 15 अगस्त, सावन, महाशिवरात्रि आदि। इस मौसम में हम ढेर सारे ताजे फलों और खासकर रसीले आमों का स्वाद लेते है। मैं इस मौसम का आनन्द खुल कर लेता हूँ क्योंकि इसी मौसम में मेरी माँ बारिश के दौरान इडली, चाय, पकौड़े आदि बनाती है। निष्कर्ष भारत में वर्षा ऋतु का आगमन जुलाई महीने में होता है जब दक्षिण-पश्चिम मानसून की हवाएँ बहना शुरु हो जाती है। हिन्दी महीनों के अनुसार ये आषाढ़ और श्रावण में आता है। सभी इस मौसम का आनन्द उठाते है क्योंकि ताजी हवा और बारिश के पानी वजह से इस मौसम में पर्यावरण बिल्कुल साफ, सुंदर और शीतल हो जाता है। वर्षा ऋतु पर निबंध 3 200 शब्द प्रस्तावना वर्षा को ऋतुओं की रानी कहा जाता है ये ऋतु प्रचंड गर्मी के भोगने के बाद आती है और भारत वर्ष के लोगों को काफी राहत दिलाती है। मुझे लगता है कि जिस तरह से मुझे वर्षा ऋतु बहुत पसंद है उसी तरह दूसरों को भी यह मौसम खूब भाता होगा। यह मुझे काफी खुशी और राहत देता है। आखिरकार यह लंबी गर्मी के बाद जो आता है। किसानों के लिए वर्षा ऋतु हमारे किसान भाई इस मौसम के लिये फसलों की तंदुरुस्ती के लिये भगवान इन्द्रराज से प्रार्थना करते है। भारत में किसानों के लिये इन्द्रराज देव की बहुत महत्ता है, क्योंकि इन्द्र देव को वर्षा ऋतु का स्वामी माना जाता है। वर्षा ऋतु इस धरती पर पेड़, पौधे, इंसान और जानवरों के लिये नया जीवन लेकर आती है। सभी जीव-जन्तु बारिश के पानी में भीग कर इस मौसम का आनन्द उठाते है। जब बारिश आती है तो मैं और मेरे दोस्त छत पर जाकर बारिश के पानी में खूब नाचते-गाते है और ढेर सारी मस्ती करते है। कई बार हम बारिश के दौरान स्कूल या स्कूल बस में होते है और हमारे साथ अध्यापक भी होते है तब भी हम लोग खूब मस्ती करते है। हमारे शिक्षक हमें वर्षा ऋतु पर कविता और कहानियाँ सुनाते है जिसका हम सभी खूब लुत्फ उठाते है। जब हम घर लौटते तो हम फिर से बाहर बारिश के पानी में खेलने जाते है। पूरा पर्यावरण हरा-भरा लगता है और ये बेहद साफ और सुंदर दिखाई देता है। इस धरती पर मौजूद हर जीव जन्तु एक नये जीवन का अनुभव करता है। निष्कर्ष वर्षा से फसलों के लिए पानी मिलता है तथा सूखे हुए कुएं, तालाबों तथा नदियों को फिर से भरने का कार्य वर्षा के द्वारा ही किया जाता है। इसीलिए कहा जाता है कि जल ही जीवन है। हमें वर्षा के जल को संचित करके रखना चाहिए। वर्षा ऋतु पर निबंध 4 250 शब्द प्रस्तावना भारत में वर्षा ऋतु जुलाई महीने में शुरु हो जाती है और सितंबर के आखिर तक रहता है। ये असहनीय गर्मी के बाद सभी के जीवन में उम्मीद और राहत की फुहार लेकर आता है। इंसानों के साथ ही पेड़, पौधे, चिड़ियाँ और जानवर सभी उत्सुकता के साथ इसका इंतजार करते है और इसके स्वागत के लिये ढेर सारी तैयारियाँ करते है। इस मौसम में सभी को राहत की साँस और सुकून मिलता है। आकाश बहुत चमकदार, साफ और हल्के नीले रंग का दिखाई पड़ता है और कई बार तो सात रंगों वाला इन्द्रधनुष भी दिखाई देता है। पूरा वातावरण सुंदर और आकर्षक दिखाई देता है। सामान्यतः मैं हरे-भरे पर्यावरण और दूसरी चीजों की तस्वीर लेता हूँ जिससे ये मेरे कैमरे में यादों की तरह रहे। आकाश में सफेद, भूरा और गहरा काला बादल भ्रमण करता दिखाई देता है। प्रकृति पर वर्षा ऋतु का प्रभाव सभी पेड़ और पौधे नयी हरी पत्तियों से भर जाते है तथा उद्यान और मैदान सुंदर दिखाई देने वाले हरे मखमल की घासों से ढक जाते है। जल के सभी प्राकृतिक स्रोत जैसे नदिया, तालें, तालाबें, गड्ढें आदि पानी से भर जाता है। सड़कें और खेल का मैदान भी पानी से भर जाता है और मिट्टी कीचड़युक्त हो जाती है। वर्षा ऋतु के ढेर सारे फायदे और नुकसान है। एक तरफ ये लोगों को गरमी से राहत देती तो दूसरी तरफ इसमें कई सारी संक्रामक बीमारियों के फैलने का डर बना रहता है। यह किसानों के लिये फसलों के लिहाज से बहुत फायदेमंद रहता है लेकिन यह कई सारी संक्रमित बीमारियों को भी फैलाता है। इससे शरीर की त्वचा को काफी असुविधा होती है। इसके कारण डायरिया, पेचिश, टाईफॉइड और पाचन से संबंधित परेशानियाँ सामने आती है। निष्कर्ष वर्षा ऋतु में जीव जन्तु भी बढ़ने लगते हैं। ये हर एक के लिये शुभ मौसम होता है और सभी इसमें खुशी के साथ ढेर सारी मस्ती करते है। इस मौसम में हम सभी पके हुये आम का लुत्फ उठाते है। वर्षा से फसलों के लिए पानी मिलता है तथा सूखे हुए कुएं, तालाबों तथा नदियों को फिर से भरने का कार्य वर्षा के द्वारा ही किया जाता है। इसीलिए कहा जाता है कि जल ही जीवन है। वर्षा ऋतु पर निबंध 5 300 शब्द प्रस्तावना वर्षा ऋतु में आकाश में बादल छा जाते हैं, वे गरजते हैं और सुंदर लगते हैं। हरियाली से धरती हरी-हरी मखमल सी लगने लगती है। वृक्षों पर नये पत्ते फिर से निकलने लगते हैं। वृक्ष लताएँ मानो हरियाली के स्तम्भ लगते हैं। खेत फूले नहीं समाते, वास्तव में वर्षा ऋतु किसानों के लिये ईश्वर के द्वारा दिया गया एक वरदान है। वर्षा ऋतु में जीव जन्तु भी बढ़ने लगते हैं। ये हर एक के लिये शुभ मौसम होता है और सभी इसमें खुशी के साथ ढेर सारी मस्ती करते है। वर्षा ऋतु में इंद्रधनुष भारत में वर्षा ऋतु जुलाई महीने में शुरु हो जाती है और सितंबर के आखिर तक रहता है। ये असहनीय गर्मी के बाद सभी के जीवन में उम्मीद और राहत की फुहार लेकर आता है। इंसानों के साथ ही पेड़, पौधे, चिड़ियाँ और जानवर सभी उत्सुकता के साथ इसका इंतजार करते है और इसके स्वागत के लिये ढेर सारी तैयारियाँ करते है। इस मौसम में सभी को राहत की साँस और सुकून मिलता है। आकाश बहुत चमकदार, साफ और हल्के नीले रंग का दिखाई पड़ता है और कई बार तो सात रंगों वाला इन्द्रधनुष भी दिखाई देता है। पूरा वातावरण सुंदर और आकर्षक दिखाई देता है। सामान्यतः मैं हरे-भरे पर्यावरण और दूसरी चीजों की तस्वीर लेता हूँ जिससे ये मेरे कैमरे में यादों की तरह रहे। आकाश में सफेद, भूरा और गहरा काला बादल भ्रमण करता दिखाई देता है। इस मौसम में हम सभी पके हुये आम का लुत्फ़ उठाते है। वर्षा से फसलों के लिए पानी मिलता है तथा सूखे हुए कुएं, तालाबों तथा नदियों को फिर से भरने का कार्य वर्षा के द्वारा ही किया जाता है। इसीलिए कहा जाता है कि जल ही जीवन है। संक्रामक बीमारियों के फैलने का डर सभी पेड़ और पौधे नयी हरी पत्तियों से भर जाते है तथा उद्यान और मैदान सुंदर दिखाई देने वाले हरे मखमल की घासों से ढक जाते है। जल के सभी प्राकृतिक स्रोत जैसे नदियॉ, तालें, तालाबें, गड्ढें आदि पानी से भर जाता है। सड़कें और खेल का मैदान भी पानी से भर जाता है और मिट्टी कीचड़युक्त हो जाती है। वर्षा ऋतु के ढेर सारे फायदे और नुकसान है। एक तरफ ये लोगों को गरमी से राहत देती तो दूसरी तरफ इसमें कई सारी संक्रामक बीमारियों के फैलने का डर बना रहता है। यह किसानों के लिये फसलों के लिहाज से बहुत फायदेमंद रहता है लेकिन यह कई सारी संक्रमित बीमारियों को भी फैलाता है। इससे शरीर की त्वचा को काफी असुविधा होती है। इसके कारण डायरिया, पेचिश, टाईफॉइड और पाचन से संबंधित परेशानियाँ सामने आती है। निष्कर्ष वर्षा ऋतु में रोगों के संक्रमण की संभावना अधिक हो जाती है और लोग अधिक बीमार पड़ने लगते है। इसलिए इस ऋतु में लोगों को सावधानी से रहना चाहिए और बारिश का मजा लेना चाहिए और जहां तक हो सके बारिश के पानी को संचित करने का उपाय ढूँढना चाहिए। वर्षा ऋतु पर निबंध 6 400 शब्द प्रस्तावना धरती तप रही थी सूर्य आग उगल रहा था। सारे पेड़ पौधे सुख रहे थे। पक्षी-पशु जल बिना बेहाल थे। हर व्यक्ति उत्तेजना से मानसून की प्रतीक्षा कर रहा था। तभी आश्चर्यजनक रूप से मौसम में बदलाव आया। आकाश बदलो से घिर गया, तेज हवा और गड़गड़ाहट के साथ मध्य वर्षा होने लगी। मिट्टी की सौंधी सुगंध सांसों को महकने लगी। पेड़ पौधों में नया जीवन आ गया। वर्षा ऋतु हम सभी के लिये प्यारा मौसम होता है। सामान्यतः: ये जुलाई के महीने में आता है और सितंबर के महीने में जाता है। ये प्रचण्ड गर्मी के मौसम के बाद आता है। ये धरती पर मौजूद हर जीव-जन्तु के लिये एक उम्मीद और जीवन लेकर आता है जो सूरज की ताप की वजह से खत्म हो जाता है। यह अपने प्राकृतिक और ठंडे बारिश के पानी की वजह से लोगों को बहुत राहत देता है। गर्मी के कारण जो नदी और तालाब सूख जाते वे फिर से बारिश के पानी से भर जाते है इससे जलचरों को नया जीवन मिल जाता है। यह उद्यानों और मैदानों को उनकी हरियाली वापस देती है। वर्षा हमारे पर्यावरण को एक नयी सुंदरता प्रदान करती है हालाँकि ये दुख की बात है कि ये सिर्फ तीन महीनों के लिये रहती है। सबसे अधिक महत्व किसानों के लिये आम जन जीवन के अलावा वर्षा ऋतु का सबसे अधिक महत्व किसानों के लिये है क्योंकि खेती के लिये पानी की अत्यधिक आवश्यकता होती है जिससे फसलों को पानी की कमी न हो। सामान्यतः: किसान कई सारे गड्ढे और तालाब बनाकर रखते है जिससे वर्षा के जल का जरूरत के समय उपयोग कर सकें। वास्तव में वर्षा ऋतु किसानों के लिये ईश्वर के द्वारा दिया गया एक वरदान है। बारिश न होने पर वे इन्द्रराज देव से वर्षा के लिये प्रार्थना करते है और अंततः: उन्हें वर्षा का आशीर्वाद मिल जाता है। आसमान में बादल छाये रहते है क्योंकि आकाश में यहाँ और वहाँ काले, सफेद और भूरे बादल भ्रमण करते रहते है। घूमते बादल अपने साथ पानी लिये रहते है और जब मानसून आता है तो बारिश हो जाती है। वर्षा ऋतु के आने से पर्यावरण की सुंदरता बढ़ जाती है। मुझे हरियाली बेहद पसंद है। वर्षा ऋतु के पलों का आनन्द लेने के लिये मैं सामान्यतः अपने परिवार के साथ बाहर घूमने जाता हूँ। पिछले साल मैं नैनीताल गया था और वह एक अच्छा अनुभव था। कई पानी से भरे बादल कार में हमारे शरीर पर पड़े और कुछ खिड़की से बाहर निकल गये। बारिश बहुत धीमे हो रही थी और हम सभी इसका आनन्द उठा रहे थे। हम लोगों ने नैनीताल में बोटिंग नौकायन का भी आनन्द उठाया। हरियाली से भरा नैनीताल बहुत अद्भुत लग रहा था। निष्कर्ष ज्यादा बारिश हमेशा खुशियां ही नहीं लाता कभी-कभी जल प्रलय का कारण भी बन जाता है। कई जगह ज्यादा बारिश होने से गांव डूब जाते है और जन-धन की भी हानि होती है। बहुत ज्यादा बारिश के कारण खेते डूब जाते है फसलें भी नष्ट हो जाती और किसानों को बहुत नुकसान भी होता है। वर्षा ऋतु पर निबंध 7 650 शब्द प्रस्तावना वर्षा ऋतु को सभी ऋतुओं का रानी कहा जाता है। भारत में चार मुख्य ऋतुओं में वर्षा ऋतु एक है। यह हर साल गरमी के मौसम के बाद जुलाई से शुरु होकर सितंबर तक रहता है। जब मानसून आता है तो आकाश के बादल बरसते है । गर्मी के मौसम में तापमान अधिक होने के कारण पानी के संसाधन जैसे महासागर, नदी आदि वाष्प के रुप में बादल बन जाते है। वाष्प आकाश में इकट्ठा होती है और बादल बन जाते है जो वर्षा ऋतु में चलते है जब मानसून बहता है और बादल आपस में घर्षण करते है। इससे बिजली चमकती और गरजती है और फिर बारिश होती है। वर्षा ऋतु का आगमन हमारे देश में चार मुख्य ऋतुओं में वर्षा ऋतु एक है। यह ऐसी ऋतु है जो लगभग सभी लोगों की पसंदीदा होती है क्योंकि झुलसा देने वाली गर्मी के बाद ये राहत का एहसास लेकर आती है। वर्षा ऋतु जुलाई से शुरू होती है अर्थात सावन भादों के महीनों में होती है। यह मौसम भारतीय किसानों के लिए बेहद ही हितकारी एवं महत्वपूर्ण है। कड़कड़ाती गर्मी के बाद जून और जुलाई के महीने में वर्षा ऋतु का आगमन होता है और लोगों को गर्मी से काफी राहत मिलती है। वर्षा ऋतु एक बहुत ही सुहाना ऋतु है। वर्षा ऋतु आते ही लोगों में खासकर के किसानों में खुशियों का संचार हो जाता है। वर्षा ऋतु सिर्फ गर्मी से ही राहत नहीं देता है बल्कि यह खेती के लिए वरदान है। बहुत सारे फसल अच्छी वर्षा पर निर्भर करता है। अगर अच्छी वर्षा नहीं हुई तो ज्यादा उपज नहीं हो पाएगा, जिससे लोगों को सस्ते में अनाज नहीं मिल पाएगा। वर्षा ऋतु के फायदे और नुकसान वर्षा ऋतु के अपने फायदे और नुकसान है। बारिश का मौसम सभी को अच्छा लगता है क्योंकि यह सूरज की तपती गर्मी से राहत देता है। यह पर्यावरण से सभी गर्मी को हटा देता है और एक ठंडक एहसास होता है। यह पेड़, पौधे, घास, फसल और सब्जियों आदि को बढ़ने में मदद करता है। यह मौसम सभी जानवरों और पक्षियों को भी बेहद पसंद होता है क्योंकि उन्हें चरने के लिये ढेर सारी घास और पीने के लिये पानी मिल जाता है। और इससे हमें दिन में दो बार गाय और भैंसों का दूध उपलब्ध हो जाता है। सभी प्राकृतिक संसाधन जैसे नदी और तालाब आदि पानी से भर जाते है। जब बारिश होती है तो सभी सड़कें, उद्यान तथा खेल के मैदान आदि जलमग्न और कीचड़युक्त हो जाते है। इससे हमें रोज खेलने में बाधा उत्पन्न होती है। सूरज की उपयुक्त रोशनी के बिना सब कुछ बदबू करने लगता है। सूरज की रोशनी की कमी की वजह से बड़े स्तर पर संक्रामक बीमारियों विषाणु, फफूंदी और बैक्टीरिया से होने वाली के फैलने का खतरा बढ़ जाता है। वर्षा ऋतु में, भूमि की कीचड़ और संक्रमित वर्षा का पानी धरती के अंदर जाकर पानी के मुख्य स्रोत के साथ में मिलकर पाचन क्रियाओं के तंत्र को बिगाड़ देते है। भारी बारिश के कारण बाढ़ की संभावना भी बनी रहता है। वर्षा का दृश्य पृथ्वी को मनोरम और अलौकिक रूप को देखकर बादल भी उसकी ओर आकर्षित होकर प्रेमी नायक की भांति झुकते ही चले आते हैं। और रसमय होकर उसे सरस बना देते हैं। जैसे ही पृथ्वी पर बूँदें पड़ने लगती है वैसे ही पृथ्वी से अद्भुत भीनी-भीनी सुगंध उठने लगती है। वृक्षों में नया जीवन आ जाता है और वे हरे-भरे हो जाते हैं। पक्षी गण कलरव करने लगते हैं। इस प्रकार वर्षा के आगमन से वातावरण ही बदल जाता हैं। निष्कर्ष आखिरकार सभी के द्वारा वर्षा ऋतु को बहुत पसंद किया जाता है। हर तरफ हरियाली ही दिखाई देती है। पेड़, पौधे और लताओं में नयी पत्तियाँ आ जाती है। फूल खिलना शुरु हो जाते है। हमें आकाश में इन्द्र धनुष देखने का बेहतरीन मौका मिलता है। इस मौसम में सूरज भी लुका-छिपी खेलता है। मोर और दूसरे पक्षी अपने पंखों को फैलाकर झूमने लगते है। हम सभी वर्षा ऋतु का आनन्द स्कूल और घर दोनों जगह लेते है। सम्बंधित जानकारी:. These top managers were all world citizen, which means that they are able to act as the local citizens in any country. Four Seasons generally operates, but does not own, mid-sized luxury hotels and resorts. A Toronto-based hotel chain, Four Seasons places huge importance in enhancing its value through a four pillar strategy and it is this strategy that has been key to the organisations success in establishing its name firmly in the hospitality industry worldwide.

Next

वर्षा ऋतु पर निबंध

essay rainy season in hindi

इस blog post को अधिक से अधिक share कीजिये और यदि आप ऐसे ही और रोमांचिक articles, tutorials, guides, quotes, thoughts, slogans, stories इत्यादि कुछ भी हिन्दी में पढना चाहते हैं तो हमें subscribe ज़रूर कीजिये. Practiced season glances in the actual of July Xx stem of Shawan and eaters for three months long. For many people, the Kiowas, it is an old landmark, and they gave it the name Rainy Mountain. Some of the worksheets displayed are Seasons, Readtheory, Essay on winter season for class 3 pdf, A rainy day in summer essay pdf, A rainy windy day, Essay on rainy day in winter pdf, Urdu rainy season poetry for essay full, Rainy day essay in hindi pdf. It is hard for anyone to rely fully on their own personal experiences when there are so many other people out there with different experiences of their own. Groupon case study summary 20, 2018 Dictate on rainy rainy season essay in hindi for class 2 for writing 2 Brothelmeat to nearoverflights of civil to upstanding spirit was instant access kallisteroi who lies as. Top Climate Myanmar has three main seasons, hot season, rainy season and cold season.

Next

Short Essay On Rainy Season Worksheets

essay rainy season in hindi

I have a separate piece of land in my garden for vegetables and fruit trees. It usually lasts one or more months. The Hotel has to consider. Autumn, Bird, Holi 2016 Words 5 Pages Descriptive Analysis Paper Frederic Edwin Church 1826-1900 Rainy Season in the Tropics, 1866 Oil on Canvas, 213. There are green belts along the rivers and creeks, linear groves of hickory.

Next